top
KV NO

केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक -1, उदयपुर: एक परिचय

 

 

केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक -1, उदयपुर, झीलों की नगरी उदयपुर में आपका स्वागत है।यह विद्यालय झीलों की नगरी उदयपुर की सबसे प्रतिष्ठित शैक्षिक संस्थानों में से एक है| सर्वप्रथम सन 1965 में नागरिक क्षेत्र में स्थापित सीबीएसई से मान्यता प्राप्त यह विद्यालय श्रेष्ठता का केंद्र रहा है |

 

यह विद्यालय अरावली के प्राचीन एवं सुरम्य पहाड़ों से घिरा शहर के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है।  विद्यालय में 1483 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं और सेवारत कर्मचारियों की संख्या 65 है जो हर समय अकादमिक उत्कृष्टता और विद्यार्थियों के सर्वांगिण विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं।

 

यहाँ कक्षा 1 से 10 तक तीन तथा कक्षा 11 से 12 तक 4 अनुभाग हैं| विद्यालय में उच्च माध्यमिक स्तर पर सभी तीनों संकाय(विज्ञान दो-अनुभाग, वाणिज्य और मानविकी एक-एक अनुभाग) संचालित हैं| इस विद्यालय ने अनेक शिक्षक, वैज्ञानिक, चिकित्सक , अभियंता , प्रशासक इत्यादि-प्रदान किये हैं, जिन्होंने अपने जीवन में ऊँचाइयों को छुआ है, तथा समाज में प्रतिष्ठित मुकाम हाँसिल किया है |

 

 

 

 

विद्यालय का लक्ष्य

विद्यालय का लक्ष्य छात्रों का सर्वांगीण विकास कुशल मानवीय मूल्यों से परिपूर्ण और जागरुक नागरिक जो राष्ट्र का गौरव हो।

 

केन्द्रीय विद्यालयों का लक्ष्य

 

  • शैक्षिक प्रबंधन के तहत सैनिक और अर्द्धसैनिक बलों सहित स्थानान्तरणीय केन्द्रीय सरकार के कर्मचारियों के बच्चों की शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा विद्यालयी शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्टता को प्राप्त कर एक मानक स्थापित करना |

 

  • केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) और राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) केंद्रीय संस्थाओं के साथ शिक्षा के क्षेत्र में नवाचार एवं प्रयोग को आरम्भ कर बढ़ावा देना | 

 

  • विद्यार्थियों में भारतीयता  का बोध सृजित करते हुए राष्ट्रीय एकता की भावना को विकसित करना |

केंद्रीय विद्यालय - क्रमांक 1 उदयपुर के लक्ष्य

 

सपना देखें एवं अभ्यास में लेवें

 

सकारात्मक सोच को धारण करना

सृजनात्मकता के लिए प्रेरित करना

विज्ञान और धर्म का जोश भरना

समग्र विकास को प्राप्त करना

 

 

 

 

प्राचार्य

 

श्री जी एस मेहता